Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF

Contents hide
1 Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF
1.1 What is Control Chart in Hindi? (कंट्रोल चार्ट क्या है?)

Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF

Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF:- control chart kya Hota hai, What is Control chart in Hindi? कंट्रोल चार्ट क्या होता है और इसे कैसे बनायें?

Control Chart का मुख्य कार्य किसी भी Process की Stability (स्थिरता) को चेक करना है। Control Chart मे हम चेक करते है की किसी Process मे Interval of Time मे (समय अंतराल) में कितना Variation (अंतर) आता है। कंट्रोल चार्ट्स दिखते है की किसी प्रोसेस मे वेरीऐशन किस तरह से आ रहे है। और जो वेरीऐशन आ रहे है उनके पीछे कौन से Causes हो सकते है उनको पता लगाने मे भी मदद करते है। 

What is Control Chart in Hindi? (कंट्रोल चार्ट क्या है?)

 किसी भी कंट्रोल चार्ट के निम्न मुख्या भाग होते है।

Control Chart in Hindi
Control Chart in Hindi
  • UCL और LCL:- किसी भी कंट्रोल चार्ट मे ULC (Upper Control Limit) और LCL (Lower Control Limit) होती है। Upper Control Limit +3σ तक होती है इससे ऊपर किसी प्रोसेस का वेरीऐशन नहीं जाना चाहिए। Lower Control Limit-3σ तक होती है और इससे नीचे किसी प्रोसेस का वेरीऐशन नहीं जाना चाहिए। 
  • X-बार:- किसी प्रोसेस के एवरेज को दिखाता है। 
  • No Action Zone:-  कंट्रोल चार्ट मे किसी प्रोसेस का ‘नो एक्शन जॉन’ +1σ और -1σ के बीच होता है जब प्रोसेस का डाटा वेरीऐशन इस जॉन मे हो तो कोई एक्शन लेने की जरूरत नहीं है। 
  • Warning Zone:- Control Chart मे किसी प्रोसेस का ‘वार्निंग जॉन’ +2σ और -2σ के बीच होता है जब प्रोसेस का डाटा वेरीऐशन इस जॉन मे हो तो आपको सावधान हो जाना चाहिए और हो सकता है की प्रोसेस मे कुछ अनवांटेड हो सकता है। 
  • Action Zone:- Control Chart मे किसी प्रोसेस का ‘एक्शन जॉन’ +3σ और -3σ के बीच होता है जब किसी प्रोसेस का डाटा वेरीऐशन इस जॉन मे हो तो आपको एक्शन लेने की जरूरत है। 
  • अगर किसी प्रोसेस का डाटा वेरीऐशन UCL और LCL से भी ऊपर चले जाते है तो आपको तुरंत एक्शन लेने की जरूरत है।   

यह भी पढ़ें 

Pareto Chart in Hindi?

UPH & UPPH | Calculate Productivity in Hindi?

Types of Control Charts (कंट्रोल चार्ट्स कितने प्रकार के होते है?)

कंट्रोल चार्ट्स दो प्रकार के होते है:-

Control Chart in Hindi
Control Chart in Hindi

1. For Variable (ये चार्ट्स दो प्रकार के होते है।)

i. Mean Charts

ii. Range Chart

2. For Attributes (ये चार्ट्स भी दो प्रकार के होते है।)

i. P-Chart

ii. C-Chart

What are Control Charts For Variable in Hindi? (For Variable कंट्रोल चार्ट्स क्या होते है?)

ऐसा डाटा जिसे माप जा सकता हो जैसे लंबाई, चोड़ाई, मोटाई, भार। ऐसे डाटा के लिए For Variable कंट्रोल चार्ट्स की जरूरत होती है।

What is Mean Chart in Hindi? (Mean Chart क्या होते है?) 

Mean Chart से डाटा की Accuracy बनाये रखने मे सहायता करता है यहाँ Accuracy का मतलब, किसी कस्टमर ने प्रोडक्ट की लंबाई की टारगेट वैल्यू दिया है तो उस टारगेट वैल्यू के कितना क्लोज़ है इसे मैन्टेन करने मे Mean Chart सहायता करता है क्योंकि प्रोसेस मे वेरीऐशन होता ही है। 

यह भी पढ़ें 

Fishbone Diagram in Hindi?

   What is Range Chart in Hindi? (Range Chart क्या होता है?)

Range Chart किसी प्रोसेस के डाटा का Precision (शुद्धता) मैन्टेन करने मे सहायता करता है। जब कोई प्रोडक्ट बनाया जाता है तो सभी पार्ट्स की मेजरमेंट अलग-अलग आती है और प्रोसेस मे वेरीऐशन होने के कारण कोई पार्ट टारगेट वैल्यू के पास होगा और कोई पार्ट टारगेट वैल्यू के दूर होगा। 

माना की कोई प्रोडक्ट बनाया जा रहा है और उस प्रोडक्ट की टारगेट Length 4.5 दी गई है और पार्ट  4.3, 4.4, 4.6 और 4.8 पर तैयार हो रहा है ये वैल्यू प्रोसेस मे वेरीऐशन होने कारण आयी। ये टारगेट वैल्यू के जितना पास होंगी प्रोडक्ट उतना अच्छा तैयार होगा और pricise होगा। Range चार्ट प्रोसेस को precise बनाये रखने मे सहायता करता है। 

Mean Chart vs Range Chart in Hindi?

Mean Chart Range Chart
1. Mean Chart डाटा की Accuracy को मैन्टेन करने मदद करता है।  1. Range Chart किसी प्रोसेस के डाटा Precision मैन्टेन करने मे मदद करता है। 

What are Control Chart For Attributes in Hindi? (For Attributes कंट्रोल चार्ट्स क्या होते है?)

प्रोडक्ट तैयार होने के बाद उसे देख कर यह तय करना की वह प्रोडक्ट (Ok, Not Ok), (Go, NoGo), (Good, Bad) है। इस प्रकार के डाटा को Attribute डाटा कहते है और इस प्रकार के डाटा को मैन्टेन करने के लिए Attributes Charts का प्रयोग किया जाता है। 

What is P-Chart in Hindi? (P-Chart क्या होता है?)

P-Chart का प्रयोग Proportion Defective के लिए किया जाता है। माना आपने किसी तैयार प्रोडक्ट के बैच को चेक किया और उस बैच मे जितना डिफेक्ट निकला उस प्रतिशत को Proportion Defect कहते है। 

माना किसी बैच मे 100 पार्ट्स है और उस बैच को चेक करने बाद 10 डिफेक्टिव पार्ट्स निकले तो Proportion Defect का प्रतिशत 10% होगा इस प्रकार के डिफेक्ट को मैन्टेन करने के लिए P-चार्ट की जरूरत होती है। 

What is C-Chart in Hindi? (C-Chart क्या होता है?)

C-Chart का प्रयोग Defect Count के लिए किया जाता है इसका मतलब की आप किसी एक डिफेक्ट को किसी बैच मे Count करना चाहते है। 

यह भी पढ़ें

What is Check Sheet in Hindi?

P-Chart vs C-Chart in Hindi?

P-Chart C-Chart
1. किसी बैच मे Defects की टोटल प्रतिशत को मापने के लिए किया जाता है जिसे Proportion Defect कहते है।  1. C-Chart का प्रयोग किसी एक डिफेक्ट को काउन्ट करने के लिए किया जाता है। 

For Variable Control Charts vs For Attributes Chart in Hindi?

For Variable For Attributes
ऐसा डाटा जिसे माप जा सकता हो जैसे लंबाई, चोड़ाई, मोटाई, भार। ऐसे डाटा के लिए For Variable कंट्रोल चार्ट्स की जरूरत होती है। (Ok, Not Ok), (Go, NoGo), (Good, Bad) है। इस प्रकार के डाटा को Attribute डाटा कहते है और इस प्रकार के डाटा को मैन्टेन करने के लिए Attributes Charts का प्रयोग किया जाता है।  

Avantage of Control Charts in Hindi? (कंट्रोल चार्ट्स के लाभ)

1.  इसकी सहायता से Process को Control किया जा सकता है। 

2. इसकी सहायता से Product (उत्पाद) की Quality Level (गुणवत्ता) को Ensure (सुनिश्चित) किया जा सकता है। 

3. Control Chart की सहायता से हम Process मे विभन्न प्रकार के Variation  को समझने मे मदद करता है। 

How to Create Control Chart in Excel? (MS Excel मे कंट्रोल चार्ट कैसे बनायें?)

1. आपको सर्च बार मे Ms Excel लिखकर Ms Excel को ओपन करें और एक न्यू फाइल ओपन करें। 

Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF
Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF

2. अब चेक शीट से डाटा को इस तरह के फॉर्मैट मे Excel शीट मे भर लें। 

Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF
Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF

3. अब X1,X2,X3,X4 और X5 का AVERAGE निकालेंगे इसके लिए चित्र के अनुसार =AVERAGE लिखकर X1,X2,X3,X4,X5 को सिलेक्ट करें और Enter दबाएं और सभी के लिए यही फॉर्मूला लगाएं। 

यह भी पढ़ें 

Cycle Time vs Takt Time vs Lead Time vs Throughput Time in Hindi?

Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF
Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF

4. अब X1,X2,X3,X4 और X5 की Range निकलेंगे इसके लिए चित्र के अनुसार =MAX()-MIN() लिखें और ब्राकेट मे X1,X2,X3,X4 और X5 को सिलेक्ट कर लें और Enter दबाएं और प्रकार सभी के यही फॉर्मूला लगाएं। 

Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF
Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF

5. अब कंट्रोल चार्ट के Standard Daviation निकलेंगे इसके लिए चित्र के अनुसार =STDEV() लिखकर Avarage (X-Bar) के पूरे कॉलम को सिलेक्ट करें और Enter दबायें। 

Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF
Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF

6. अब हम X-DBar को निकलेंगे, पहले जान लेते है की X-DBar क्या होता है X-DBar सभी Average का Average होता है और यह कंट्रोल चार्ट की सेंटर लाइन होती है। X-DBar निकालने के लिए आपको X-DBar मे =Average() फॉर्मूला लगाकर Avg. (X-Bar) कॉलम को चित्र के अनुसार नीचे से ऊपर (21-1) सिलेक्ट करें और Enter दबायें। 

Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF
Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF

7. X-DBar की वैल्यू पूरे चार्ट के लिए एक जैसी (Constant) रहेंगी इसके लिए फार्मूला बार मे चित्र के अनुसार माउस के कर्जर को ले जाएं और फॉर्मूला को Freeze कर दें फार्मूला को फ्रीज़ करने के लिए Windows Logo button+F4 या F4 दबायें जिससे फॉर्मूला फ्रीज़ हो जाएगा और Enter दबायें और पूरे कॉलम मे यह एक जैसी वैल्यू कर दें। 

Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF
Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF 

8. अब आपको कंट्रोल चार्ट की UCL और LCL निकालने होंगे इसके लिए चित्र के अनुसार UCL के लिए =X-DBar+3×Standard Daviation और इसी तरह LCL के लिए =X-DBar-3×Standard Daviation इस फॉर्मूले को लगाकर निकाल सकते है। UCL और LCL पूरे चार्ट के लिए Constant रहेगी तो Windows Logo Button से फॉर्मूला फ्रीज़ कर दें। 

Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF
Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF

9. अब चित्र के अनुसार Avg. (X-Bar), Range, X-DBar, UL और LCL को सिलेक्ट करें और Insert मे जायें। 

Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF
Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF

10. अब Insert मे जाकर  Line Chart मे पहला 2-D चार्ट सिलेक्ट करें 

Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF
Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF

11. अब Format Plot area सिलेक्ट करें 

Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF
Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF

12. अब चित्र के अनुसार Vertical Axis Major Gradients सिलेक्ट करें और No Line कर दें। 

Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PDF
Control Chart in Hindi | 7 QC Tools | PD

यह भी पढ़ें

Cycle Time vs Takt Time vs Lead Time vs Throughput Time in Hindi?

What is Check Sheet in Hindi?

Fishbone Diagram in Hindi?

Pareto Chart in Hindi?

UPH & UPPH | Calculate Productivity in Hindi?

Download PDF

Download Link 1            Download Link 2

FAQ

 

What is control chart and its types?
कंट्रोल चार्ट क्या होता है और यह कितने प्रकार ?

Control Chart का मुख्य कार्य किसी भी Process की Stability (स्थिरता) को चेक करना है। Control Chart मे हम चेक करते है की किसी Process मे Interval of Time मे (समय अंतराल) में कितना Variation (अंतर) आता है। कंट्रोल चार्ट्स दिखते है की किसी प्रोसेस मे वेरीऐशन किस तरह से आ रहे है। और जो वेरीऐशन आ रहे है उनके पीछे कौन से Causes हो सकते है उनको पता लगाने मे भी मदद करते है। 
1. For Variable (ये चार्ट्स दो प्रकार के होते है।)
i. Mean Charts
ii. Range Chart
2. For Attributes (ये चार्ट्स भी दो प्रकार के होते है।)
i. P-Chart
ii. C-Chart

What are the different types of control charts?
विभन्न प्रकार के चार्ट्स चार्ट्स के नाम बताइए?

1. For Variable (ये चार्ट्स दो प्रकार के होते है।)
i. Mean Charts
ii. Range Chart
2. For Attributes (ये चार्ट्स भी दो प्रकार के होते है।)
i. P-Chart
ii. C-Chart

What is UCL and LCL in control chart?
कंट्रोल चार्ट्स मे Upper control limit और Lower control limit क्या होती है?

UCL और LCL:- किसी भी कंट्रोल चार्ट मे ULC (Upper Control Limit) और LCL (Lower Control Limit) होती है। Upper Control Limit +3σ तक होती है इससे ऊपर किसी प्रोसेस का वेरीऐशन नहीं जाना चाहिए। Lower Control Limit-3σ तक होती है और इससे नीचे किसी प्रोसेस का वेरीऐशन नहीं जाना चाहिए। 

What are the 4 types of control charts?
चार प्रकार के चार्ट्स कौन से है?

1. For Variable (ये चार्ट्स दो प्रकार के होते है।)
i. Mean Charts
ii. Range Chart
2. For Attributes (ये चार्ट्स भी दो प्रकार के होते है।)
i. P-Chart
ii. C-Chart

What are the two main types of control charts?
दो मुख्य कंट्रोल चार्ट्स कौन से है?

1. For Variable (ये चार्ट्स दो प्रकार के होते है।)
i. Mean Charts
ii. Range Chart
2. For Attributes (ये चार्ट्स भी दो प्रकार के होते है।)
i. P-Chart
ii. C-Chart

Share On

Leave a Comment