Newton’s Law of Motion in Hindi | न्यूटन के गति के तीनों नियम क्या है? | PDF

Contents hide
1 Newton’s Law of Motion in Hindi | न्यूटन के गति के तीनों नियम क्या है? | PDF

Newton’s Law of Motion in Hindi | न्यूटन के गति के तीनों नियम क्या है? | PDF

Newton’s Law of Motion in Hindi | न्यूटन के गति के तीनों नियम क्या है? | PDF:-अगर आप Newton’s First Law of Motion in Hindi या Newton’s Second Law of Motion in Hindi या Newton’s Third Law of Motion in Hindi या Newton’s First Law of Motion Formula in Hindi के बारे मे पूरी जानकारी सरल और आसान भाषा मे जानना चाहते है तो आइए पढ़ते है:-

Newton’s Law of Motion in Hindi (न्यूटन के गति के नियम क्या है?)

 न्यूटन के गति के नियम प्राकृतिक नियम है न्यूटन क गति के नियम किसी वस्तु पर लगने वाले बल और उस बल से वस्तु मे उत्पन्न गति के बीच संबंध को बताते है। न्यूटन के गति के नियम सन् 1687 मे आइजक न्यूटन द्वारा लिखी प्रिन्सिपिया मैथेमेटिका मे प्रकाशित किए गए थे। 

न्यूटन का गति का प्रथम नियम (Newton’s First Law of Motion) जड़त्व का नियम 

न्यूटम का गति का दूसरा नियम (Newton’s Second Law of Motion) संवेग का नियम 

न्यूटन का गति का तीसरा नियम (Newton’s Third Law of Motion) क्रिया-प्रतिक्रिया का नियम 

Newton’s Law of Motion in Hindi | न्यूटन के गति के तीनों नियम क्या है? | PDF
Newton’s Law of Motion in Hindi

Newton’s First Law of Motion in Hindi (न्यूटन का गति का प्रथम नियम क्या है?)

न्यूटन के गति के प्रथम नियम के अनुसार प्रत्येक पिण्ड या वस्तु अपनी विराम अवस्था मे या एक समान  रेखीय गति की अवस्था मे तब रहता है जब उस पर कोई बाहरी बल उस पर नहीं लगाया जाता है। न्यूटन के प्रथम नियम को जड़त्व का नियम (Law of Inertia) भी कहते है। 

उदाहरण 1:-अचानक ट्रेन के चलने पर तरीन मे बैठे व्यक्ति पीछे की ओर झुक जाते है। 

उदाहरण 2:-लंबी कूद के लिए व्यक्ति कुछ दूर दौड़ कर उछलता है। 

उदाहरण 3:-जमीन पर राखी फूटबॉल को किक मारने पर वह चलने लगती है। 

यह भी पढ़ें 

Ohm’s Law in Hindi

Newton’s Law of Cooling in Hindi

What is Inertia in Hindi? (जड़त्व क्या होता है?)

जड़त्व किसी वस्तु का वह गुण है जिसके कारण  वस्तु  अपनी अवस्था बनाए रखना चाहती है। जड़त्व के नियम से नियम से बल की परिभाषा भी मिलती है। 

What is Definition of Force in Hindi? (बल की परिभाषा क्या है?)

वह कारक जो किसी पिण्ड या वस्तु की अवस्था मे परिवर्तन लाया जा सकता हो, बल कहलाता है। 

What is Momentum in Hindi? (संवेग क्या होता है?)

द्रव्यमान (Mass) और वेग (Velocity) के गुणनफल को संवेग कहते है इसे P से दर्शाते है। इसकी SI इकाई Kg×m/second है। 

P=m×v (Kg×m/second)

यह भी जाने :-

What is Motion in Hindi? (गति क्या होती है?)

यदि कोई पिण्ड या वस्तु अपनी स्थिति, अपने चारों ओर की वस्तुओ की तुलना मे बदले तो उस स्थिति को वस्तु की गति कहते है। इसकी SI इकाई मीटर होती है। 

What is Velocity in Hindi? (वेग क्या होता है?)

किसी वस्तु की गति परिवर्तन की दर को वेग कहते है। इसकी SI इकाई m/second होती है। इसका सूत्र v=d/t होता है। इसकी विमा LT-1 होती है।

What is Acceleration in Hindi? (त्वरण क्या होता है?)

किसी वस्तु की वेग परिवर्तन की दर को त्वरण कहते है। इसका SI इकाई m/sec2 होता है। इसका सूत्र a=v/t होता है। इसकी विमा LT-2 होती है।

यह भी पढ़ें 

Ohm’s Law in Hindi

Newton’s Law of Cooling in Hindi

Newton’s Second Law of Motion in Hindi (न्यूटन का गति का दूसरा नियम क्या है?)

न्यूटन के गति के दूसरे नियम के अनुसार किसी वस्तु या पिण्ड की संवेग परिवर्तन की दर लगाए गए बल के समानुपाती होती है। और संवेग की दिशा वही होती है जिस दिशा मे बल लगाया जाए। न्यूटन के गति के दूसरे नियम को संवेग का नियम भी कहते है। न्यूटन के गति के दूसरे नियम से बल का व्यंजक मिलता है। 

न्यूटन के दूसरे नियम के अनुसार:-

संवेग परिवर्तन की दर=बल 

P2-P1/t=F

(m2v2)-(m1v1)/t=F

mv2-mv1/t=F

m(v2-v1)/t=F

(यहाँ पर a=v/t त्वरण का सूत्र है।)

ma=F

F=m×a

यह भी पढ़ें 

Ohm’s Law in Hindi

Newton’s Law of Cooling in Hindi

उदाहरण 1:- क्रिकेट खिलाड़ी तेजी से आती गेंद को कैच करने के लिए अपने हाथों को थोड़ा-सा पीछे कर लेता है ताकि चोट काम लगे। 

Newton’s Third Law of Motion in Hindi (न्यूटन का गति का तीसरा नियम क्या है?)

न्यूटन के गति के तीसरे नियम के अनुसार प्रत्येक क्रिया के बराबर और विपरीत दिशा मे प्रतिक्रिया होगी। न्यूटन के गति के तीसरे नियम को क्रिया-प्रतिक्रिया (Newton’s Law of Action & Reaction) का नियम भी कहते है?

उदाहरण 1:-बंदूक से गोली छोड़ते समय पीछे की ओर झटका लगना। 

उदाहरण 2:-रॉकेट का आगे बढ़ना। 

उदाहरण 3:-कुआं से पानी खीचते समय रस्सी के टूटने पर पीछे की ओर गिर जाना। 

Newton’s Law of Motion in Hindi PDF Download

Download Link 1             Download Link 2

Password:- rna.net.in

यह भी पढ़ें 

Ohm’s Law in Hindi

Newton’s Law of Cooling in Hindi

FAQ

गति के तीन नियम क्या है?

न्यूटन के गति के प्रथम नियम के अनुसार प्रत्येक पिण्ड या वस्तु अपनी विराम अवस्था मे या एक समान  गति की अवस्था मे तब रहता है जब उस पर कोई बाहरी बल उस पर नहीं लगाया जाता है। न्यूटन के प्रथम नियम को जड़त्व का नियम (Law of Inertia) भी कहते है।

न्यूटन के गति के दूसरे नियम के अनुसार किसी वस्तु या पिण्ड की संवेग परिवर्तन की दर लगाए गए बल के समानुपाती होती है। और संवेग की दिशा वही होती है जिस दिशा मे बल लगाया जाए। न्यूटन के गति के दूसरे नियम को संवेग का नियम भी कहते है। न्यूटन के गति के दूसरे नियम से बल का व्यंजक मिलता है। 
F=m×a
न्यूटन के गति के तीसरे नियम के अनुसार प्रत्येक क्रिया के बराबर और विपरीत दिशा मे प्रतिक्रिया होगी। न्यूटन के गति के तीसरे नियम को क्रिया-प्रतिक्रिया (Newton’s Law of Action & Reaction) का नियम भी कहते है?

न्यूटन का गति विषयक द्वितीय नियम क्या है?

न्यूटन के गति के दूसरे नियम के अनुसार किसी वस्तु या पिण्ड की संवेग परिवर्तन की दर लगाए गए बल के समानुपाती होती है। और संवेग की दिशा वही होती है जिस दिशा मे बल लगाया जाए। न्यूटन के गति के दूसरे नियम को संवेग का नियम भी कहते है। न्यूटन के गति के दूसरे नियम से बल का व्यंजक मिलता है। 
F=m×a

न्यूटन के प्रथम नियम को क्या कहा जाता है?

न्यूटन के गति के प्रथम नियम के अनुसार प्रत्येक पिण्ड या वस्तु अपनी विराम अवस्था मे या एक समान  गति की अवस्था मे तब रहता है जब उस पर कोई बाहरी बल उस पर नहीं लगाया जाता है। न्यूटन के प्रथम नियम को जड़त्व का नियम (Law of Inertia) भी कहते है।

न्यूटन का गति का तीसरा नियम क्या है?

न्यूटन के गति के तीसरे नियम के अनुसार प्रत्येक क्रिया के बराबर और विपरीत दिशा मे प्रतिक्रिया होगी। न्यूटन के गति के तीसरे नियम को क्रिया-प्रतिक्रिया (Newton’s Law of Action & Reaction) का नियम भी कहते है?

न्यूटन के गति के नियम के फार्मूला क्या है?

न्यूटन के गति के दूसरे नियम के अनुसार किसी वस्तु या पिण्ड की संवेग परिवर्तन की दर लगाए गए बल के समानुपाती होती है। और संवेग की दिशा वही होती है जिस दिशा मे बल लगाया जाए। न्यूटन के गति के दूसरे नियम को संवेग का नियम भी कहते है। न्यूटन के गति के दूसरे नियम से बल का व्यंजक मिलता है। 
न्यूटन के दूसरे नियम के अनुसार:-
संवेग परिवर्तन की दर=बल 
P2-P1/t=F
(m2v2)-(m1v1)/t=F
mv2-mv1/t=F
m(v2-v1)/t=F
(यहाँ पर a=v/t त्वरण का सूत्र है।)
ma=F
F=m×a

Share On

Leave a Comment